Category Archives: अनोखे घरेलू टिप्स

चेहरे को चमकदार और गोरा बनाने के लिए क्या करें How to get glowing and spot less skin

चेहरे की चमक बढ़ाने के लिए क्या करें How to get rid of pimples and wrinkles home remedies

कौन नहीं चाहता है की उसका चेहरा सुन्दर और चमकदार लगे खासतौर से हर लड़की की हमेशा यही चाह होती है की उनका चेहरा हमेशा चमकता हुआ रहे और कभी भी उनके चेहरे पर किसी भी प्रकार की परेशानी न हो और वो हमेशा जवा दिखे,

पर आजकल के बढ़ते प्रदूषण और बदलते खान पान के कारण ऐसा नहीं हो पता है बल्कि आप समय से पहले ज्यादा उम्र के दिखने लगते हैं. पर कई ऐसे उपाय भी हैं जो आपके चेहरे को चमकदार और खूबसूरत बनाने में मदद करते हैं, जी हाँ दोस्तों आज हम आपको ऐसे ही एक आसान उपाय के बारे में बताएंगे जो आपके चेहरे को बहुत चमकदार और सुन्दर बना देगा.

Advertisements

 

जानें कैसे तैयार करें ये फेस पैक

चेहरे की चमक बढ़ाने तथा चेहरे से दाग धब्बे हटाने के लिए ये फेस पैक बहुत मदगार है, जी हाँ इस फेस पैक को बनाने के लिए सबसे पहले एक कटोरा (Bowl) लेलें और फिर उसमे थोड़ा सा हल्दी लेलें और ध्यान रहे की हल्दी अच्छी क्वालिटी की ही होनी चाहिए, और फिर हल्दी में थोड़ा सा एलोवेरा जैल मिलालें.

           और फिर हल्दी में थोड़ा सा एलोवेरा जैल मिलालें और इन दोनों को कुछ देर ताल अच्छे से मिलाये जब तक ये अच्छे से मिल न जाये तब तक इसका प्रयोग न करें, अगर आप चाहें तो इसमें थोड़ा सा केसर और चन्दन भी मिला सकते हैं, ये जरुरी नहीं है अगर आपके पास है है तो ही मिलाये. और अब आपका पेस्ट चेहरे पर लगाने के लिए तैयार हो जायेगा.

Advertisements

 

फेस पर अप्लाई करें – 

पेस्ट तैयार होने के बाद अपनी उंगलियों की मदद से इसे अपने पुरे चेहरे पर अच्छी तरके से लगाले और सूखने के लिए छोड़ दें, जब तक ये सुख न जाये तब तक चेहरे को धोएं न, और जब ये अच्छी तरीके से सुख जाये तो उसके बाद साधारण पानी से अपने चेहरे को धोलें.

पीलापन कैसे उतारे – 

दोस्तों हल्दी का रंग पीला होने के कारण हो सकता है आपके चेहरे पर थोड़ा बहुत पीलापन आ जाये अर्थात आपके चेहरे पर हल्दी का रंग चढ़ जाये तो उसके लिए 2 घंटे के बाद आप अपने चेहरे को फेस वाश से धो सकती हैं जिससे आपके चेहरे से हल्दी का रंग उतर जायेगा और आपके चेहरे की चमक पहले से कई गुना बाद जाएगी साथ ही इस पेस्ट से आपके चेहरे के दाग धब्बे भी धीरे – धीरे सही हो जायेंगे. इस बात का भी ध्यान रखें की इस फेस पैक यूज़ हफ्ते में सिर्फ एक बार ही करना है.

Advertisements

 

जाने आप क्यों हैं लोगों के आकर्षण की वजह Personality according to Zodiac Signs Astrology

राशि अनुसार जाने अपनी खास खूबियां How to Read Horoscope Reading astrology

वास्तु शास्त्र के अनुसार प्रत्येक राशि की अपनी एक खास विशेषता होती है जो उन्हें समाज में एक अलग पहचान दिलाती है. लेकिन जरूरत है तो बस अपनी इन खास विशेषताओं को जानने की.

वास्तु शास्त्र के अनुसार आप किसी भी व्यक्ति की राशि जानकर उनकी खास विशेषता जान सकते है. आज हम आपको आपकी राशि के अनुसार बताएँगे कि आपमें ऐसी कौन सी विशेषता है जिससे आप लोगो के बीच आकर्षण का केंद्र बनते है.

मेष राशि –

मेष राशि के जातक अपने लक्ष्यों के प्रति हमेशा ईमानदार होते हैं। इस राशि के जातक जब किसी काम को करने की सोच लेते है तो उसे पूरा करके ही रहते हैं।

Advertisements

 

अन्य राशियों की तुलना में मेष राशि के जातक बहुत ही निडर होते हैं। जीवन में इन्हे कभी किसी असफलता या परेशानी से डर नहीं लगता।

वृष राशि –

वृषभ राशि के जातक काफी भरोसेमंद होते हैं। इनमें स्थिरता होती है और साथ ही ये लोग अपनी ही शर्तों पर काम करने वाले होते हैं। इनके जीवन का लक्ष्य आजीवन शांति पाना होता है। शांतिपूर्ण जीवन के अतिरिक्त इन्हें किसी अन्य चीज की चाह नहीं होती।

मिथुन राशि –

मिथुन राशि के जातक बहुत ही बहुत ही जिज्ञासु प्रवति के होते हैं. इस स्वभाव के कारण ये किसी भी परिस्थिति में बोर नहीं होते। इस राशि के जातको की सबसे खास बात ये होती है कि ये लोग तब तक किसी बात पर यकीन नहीं करते जब तक ये उसे अपनी आंखों से देख नहीं लेते।

कर्क राशि –

कर्क राशि के जातक अपने ऊपर से तो बहुत कठोर होते हैं लेकिन अंदर से वो बहुत ही भावुक होते हैं। ये लोग अपने प्रियजनों की हर बात सुनने वाले होते है. अपने परिवार को हर खुशी देना, उनकी भावनाओं का खयाल इस राशि के स्वभाव में होता हैं. इस राशि से जुड़े लोग इनके साथ रहने में अत्यंत सुरक्षित महसूस करते हैं।

सिंह राशि –

इस राशि के जातक हमेशा कुछ नया करने की तलाश में रहते है साथ ही ये लोग काफी बुद्धिमान भी होते है. अपनी बुद्धिमानी से ये हर कार्य में सफलता पाते है. इस राशि के जातको की फ्रेंडलिस्ट काफी लम्बी होती है और ये हर मित्र के प्रति ईमानदार भी रहते है.

कन्या राशि –

कन्या राशि के जातक काफी मेहनती होते है लेकिन कभी कभी इन्हे इनकी कड़ी मेहनत का पूर्ण फल नहीं मिल पाता. ये कठिन से कठिन परिस्थिति में भी धैर्य रखने वाले होते है. ये लोग अंदर से चाहे कितने भी कमजोर क्यों ना पड़ जाये लेकिन बाहर अपनी एक अलग ही छवि लेकर चलते है.

Advertisements

 

तुला राशि –

इस राशि के जातक बहुत ही अनुशासनप्रिय होते हैं और इस स्वभाव के कारण ये लोग अपने घरों में शांति रख पाते हैं। तुला राशि के जातको की सबसे खास बात ये होती है कि ये लोग अपनी जिम्मेदारियों को अच्छे से समझते है और जिम्मेदारियों के प्रति हमेशा ही ईमानदार रहते है.

वृश्चिक राशि –

वृश्चिक राशि के जातक बहुत ही साहसी और जुनुनी होते है इनमे हर डर से लड़ने की क्षमता होती है। ये लोग कल में नहीं बल्कि आज में जीते है. इस राशि के जातक जब किसी से रिश्ता बनाते हैं तो उनसे बहुत ही आत्मीयता से जुड़ जाते हैं।

धनु राशि –

धनु राशि के जातक काफी खुले विचारों के होते हैं। ये बहुत ही उत्साही और रोमांचक होते हैं। इस राशि के जातक हमेशा कुछ नया करने की तलाश में रहते हैं और उससे जुड़े एक्सपीरियंस को दूसरों से साझा भी करते हैं। हमेशा कुछ नया कर दिखाने की चाह और उससे जुड़ा उनका अनुभव उन्हें ज्ञान का नया भंडार दे जाती है।

Advertisements

 

मकर राशि –

मकर राशि के जातक काफी ईमानदार, मेहनती और समर्पित होते हैं। ये ईमानदारी से नाम कमाने में विश्वास रखते हैं। साथ ही इस राशि के जातक हमेशा आत्मनिर्भर रहना चाहते हैं। इसके लिए ये लोग अनवरत प्रयास करते रहते हैं और इनकी यहीं कोशिश दूसरों को इनके जैसा बनने के लिए प्रेरित भी करती है।

कुंभ राशि –

कुंभ राशि के जातक स्वतंत्रता प्रिय होते है इन्हे दुसरो के अंडर का करना बिलकुल भी पसंद नहीं होता. ये लोग हमेशा अपने अस्तित्व को साबित करने का प्रयास करते रहते हैं. ये लोग काफी इमोशनल होते है इस राशि के जातको की सबसे खास बात ये होती है कि ये लोग किसी भी व्यक्ति को सिर्फ एक ही नजरिये से नहीं देखते 

मीन राशि –

मीन राशि के लोग मन की गहराई को समझने वाले होते हैं। इस कारण इनका स्वभाव रचनात्मक प्रवति का होता है. इस राशि के जातक अपनी रचना के माध्यम से जीवन के सभी रहस्यों को सामने लाने का प्रयास करते हैं। इन लोगो के अंदर एक खास बात ये होती है कि ये लोग किसी की मदद के लिए पीछे नहीं हटते चाहे मदद मांगने वाला इनका मित्र हो या फिर इनका दुश्मन.

Advertisements

 

गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित कैसे करें Ganesh Chaturthi 2017

गणेश चतुर्थी पूजा विधि Ganesha Chaturthi 2017

यह तो आप सभी लोग ही जानते होंगे कि भगवान गणपति जी का जन्म मध्यकाल में हुआ था इसलिए इनकी स्थापना इसी काल में की जाती है। इस बार गणेश चतुर्थी वाले दिन शुभ और मंगलमयी संयोग बन रहे हैं।

इस साल गणेश चतुर्थी का पर्व 25 अगस्त से शुरू होकर 5 सितंबर तक चलेगा। गणेशोत्सव पर हम सभी लोग अपने घरो में श्री गणेश की स्थापना करते है। आज हम आपको उन सभी बातों के बारे में बताएँगे जिन्हे भगवान श्री गणेश की प्रतिमा स्थापित करते समय जरूर ध्यान रखनी चाहिए.

बाईं ओर सूंड –

ध्यान रखें कि आप जिस भी मूर्ति को घर में स्थापित कर रहे है, उसकी सूंड बाईं ओर होनी चाहिए, जो उनकी मां गौरी के प्रति उनका प्यार दर्शाती है।

Advertisements

 

हममे से ही कई लोग मां गौरी और भगवान गणेश जी को एक साथ पूजते हैं। इसलिए घर में स्थापित की जाने वाली भगवान गणेश जी की मूर्ति की सूंड की दिशा की ओर जरूर ध्यान दें।

दक्षिण दिशा वर्जित –

ध्यान रखें कि भगवान गणेश जी की मूर्ति को कभी भी घर में दक्षिण दिशा की ओर न स्थापित करें। भगवान को पूर्व या पश्चिम दिशा की ओर स्थापित करें. यहां तक कि आपका पूजा करने का स्थान भी दक्षिण दिशा की ओर नहीं होना चाहिए। साथ ही भगवान गणेश जी को को कभी भी उस दीवार पर स्थापित न करें जो वाशरूम की दीवार से जुड़ी हुई हों।

चांदी के गणेश –

कई लोग अपने घरो में चांदी के भगवान गणेश स्थापित करते हैं। यदि आपके भगवान गणेश चांदी के हैं, तो इन्हे आप  उत्तर पूर्व या दक्षिण पश्चिम दिशा में स्थापित करें।

उत्तर- पूर्व –

कोशिश करें कि घर में जो उत्तर – पूर्व कोना है, उसमें भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करें. उत्तर – पूर्व दिशा में भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करना काफी शुभ होता है.

Advertisements

 

और यदि आपके घर में इस दिशा का कोना न हों तो आप पूर्व या पश्चिम दिशा में ही स्थापित करें।

सीढ़ियों के नीचे –

यदि आप ड्यूप्लेक्स या फिर बंगले में रहते हैं तो ध्यान रखें कि कभी भी सीढ़ियों के नीचे भगवान की मूर्ति स्थापित न करें, क्योंकि हम पूरे दिन सीढ़ियों से ऊपर नीचे आते-जाते रहते हैं और धर्म के अनुसार, ऐसी जगह में भगवान की मूर्ति स्थापित करना ईश्वर का अपमान है। वास्तु के अनुसार ऐसा करने से घर में दुर्भाग्य आता है।

Advertisements

 

इन पेड़ पौंधो को घर पर लगाने से आती है सुख समृद्धि Best easy tips for home happiness

घर से नकारात्मकता दूर करने के लिए लगाएं ये पेड़ पौंधे Negativity hatane ke liye ghr pr lagaye ye ped paundhe 

ये तो सब जानते ही हैं कि पेड़ पौंधे लगाने से हरियाली आती है और घर में रहने वाले लोग भी हमेशा स्‍वस्‍थ्‍ा रहते हैं, कुछ पेड़ पौंधे ऐसे होते हैं जो आपके लिए बहुत शुभ होते हैं और आपके घर में सकारात्मकता लाते हैं .

बहुत से लोगो को पता नहीं होता है कि कोनसे पेड़ लगाने से उन्हें लाभ होता है ऐसे कई पेड़ है जो आपके घर में सुख समृद्धि लाते हैं, तो आज हम आपको कुछ ऐसे पेड़ पौंधो के बारे में बताएंगे जो आपके लिए शुभ होते हैं.

Advertisements

 

नीम का पेड़ (Neem tree) –

जी हाँ दोस्तों सामान्यत: लोग घर में नीम का पेड़ लगाना ज्यादा पसंद नहीं करते हैं, लेकिन घर में नीम के पेड़ का लगा होना बहुत ही शुभ माना जाता है। पॉजिटिव एनर्जी के साथ यह पेड़ कई प्रकार से कल्याणकारी भी होता है। तथा ये हमें कई साडी बीमारियों से छुटकारा भी दिलाता है. इसलिए घर के आगे नीम का पेड़ जरूर लगाए नीम का पेड़ हर तरीके से गुणकारी होता है.

तुलसी का पौंधा (Basil plant) –

तुलसी के पौंधे का बहुत खाश महत्त्व माना जाता है। तुलसी के पौधे को एक तरह से लक्ष्मी का रूप भी माना गया है। अगर आपके घर में किसी तरह की नेगेटिव एनर्जी मौजूद है, तो यह पौधा उसे खतम कर आपके घर में सकारात्मकता लाता है। पर ध्यान रखें कि तुलसी का पौधा घर के दक्षिणी भाग में कभी भी नहीं लगाना चाहिए ये सही नहीं माना जाता है और न ही कभी तुलसी को सूखने दें क्युकी तुलसी के पौंधे का सुखना भी शुभ नहीं माना जाता है.

Advertisements

 

आंवले का पेड़ (Amla tree) –

जी हाँ अगर घर पर आंवले का पेड़ लगा हो और वह भी उत्तर दिशा और पूरब दिशा में तो यह बहुत ही लाभदायक माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि आंवले का पेड़ आपके सभी कष्टों का निवारण करता है। और आपके घर में हमेशा सुख समृद्धि बानी रहती है तथा कभी भी किसी प्रकार की परेशानी नहीं आती है.

केले का पेड़ (Banana tree) –

ये तो आप सभी जानते ही हैं कि केले का पौधा धार्मिक कारणों से भी बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। गुरुवार को इसकी पूजा भी की जाती है और अक्सर पूजा-पाठ के समय केले के पत्ते का ही इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए घर में केले का पेड़ ईशान कोण में हो तो ज्यादा शुभ माना जाता है। इससे आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है.

बांस का पौंधा (Bamboo Plant) –

जी हाँ दोस्तों बांस का पौधा घर में लगाना बहुत अच्छा माना जाता है। बांस का पौंधा समृद्धि और आपकी सफलता को ऊपर ले जाने की क्षमता रखता है।

Advertisements

 

नारियल का पेड़ (Coconut tree) –

ऐसा कहा जाता है कि जिनके घर में नारियल के पेड़ लगे हों, उनके मान-सम्मान में खूब वृद्धि होती है। और उनके घर परिवार में सुख समृद्धि भी बानी रहती है.

बेल का वृक्ष (Bell Tree) –

जी हाँ ये तो आप जानते ही होंगे कि बेल के पत्ते भगवान शिव को बहुत प्रिय होते हैं, ऐसा माना जाता है कि इस पेड़ पर भगवान भोलेनाथ का निवास होता है, बेल का वृक्ष घर के आगे लगाने से आपके घर में कभी भी धन संबंधी परेशानियां नहीं होती हैं और आप हमेशा लक्ष्मी कि कृपा भी बानी रहती है.

Advertisements

 

शैम्पू और कंडीशनर के प्रयोग से जुडी बातें How to use shampoo and conditioner for silky shiny hair

बेस्ट शैम्पू और हेयर कंडीशनर कैसे चुने Beauty hair product hair care tips  

आज के समय में जाहिर सी बात है हर कोई चाहता है की उसके भी खूबसूरत, लम्बे, सिल्की बाल हो। हम सभी लोग अपने बालों को सुन्दर बनाये रखने के लिए बालों के लिए एक बेस्ट शैम्पू का चयन करते है।

लेकिन ध्यान रखे जितना समय आप अपने बालों के लिए शैम्पू का चयन करने के लिए करते है उतना ही समय आपको अपने बालों के लिए कंडीशनर लेते समय भी लेना चाहिए। हममे से ही कई लोग जिस ब्रांड का शैम्पू प्रयोग करते है उसी ब्रांड का कंडीशनर भी प्रयोग करते है जो कि उचित नहीं है। क्योकि हो सकता है कि आपके सिर की त्वचा ऑयली हो जिसके लिए आपको ऐसे शैम्पू के प्रयोग की जरूरत हो जो आपकी स्कैल्प को ऑयल फ्री रख सके और यदि आपके बालों का निचला हिस्सा ड्राई या फिर बेजान हो तो इसके लिए आपको अलग तरह के कंडीशनर की जरूरत होती है। ध्यान रखें कि ये दोनों समस्याए अलग-अलग है।

Advertisements

 

इसलिए सिर्फ एक ही ब्रांड के शैम्पू व कंडीशनर का इस्तेमाल करना उचित नहीं है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि आप अपने बालों के हिसाब से कौन सा शैंपू चुनेंगी जो बालों को सूट करे। तो फ्रेंड्स बात करते हैं शैम्पू और कंडीशनर के प्रयोग से जुडी ये कुछ बातें।

शैम्पू और कंडीशनर खरीद रहे हैं तो इस बात का धयान दें जब कभी भी आप शेम्पू और कंडीशनर खरीदें तब ध्यान दें टीवी या पेपेर पर विज्ञापन देख कर शैंपू और कंडीशनर नहीं खरीदना चाहिये। हमेशा एक बार उस प्रोडकट की सही से जाँच करलें कि जो शैंपू आप खरीदने जा रहे हैं, उसमें क्‍या-क्‍या सामग्री मिली हुई है। या कही यह आपके बालों के लिए नुकसानदायक तो नहीं है।

जानें किस स्थिति में करें एक जैसे शैम्पू और कंडीशनर का प्रयोग आपको यह बात पता होनी चाहिए कि शैम्पू का प्रयोग बालों की जड़ों के लिए किया जाता है जबकि कंडीशनर का प्रयोग बालों के सिरों को मॉइस्चराइज करने के लिए होता है। ये दोनों ही बातें अलग-अलग हैं। इसलिए जो ब्रांड आपके बालों की जड़ों के लिए उपयुक्त है जरूरी नहीं कि वहीं ब्रांड आपके बालों के सिरों के लिए भी सही हो। एक ही ब्रांड का कंडीशनर प्रयोग करने के बाद आपके बाल और अधिक रूखे और बेजान हो सकते हैं। इसलिए किसी एक ही ब्रांड को चुनने की गलती ना करें। अपने बालों की प्रकृति को समझें और उसी के अनुसार शैम्पू और कंडीशनर का प्रयोग करें।

किस स्थिति में चुने एक ही ब्रांड का शैम्पू और कंडीशनर यदि आपको डैंड्रफ या फिर खुजली जैसी समस्यां हों, तो आप एक ही जैसे ब्रांड का शैम्पू व कंडीशनर का प्रयोग कर सकते हैं। यदि एंटी डैंड्रफ शैंपू के प्रयोग के बाद एंटी डैंड्रफ कंडीशनर का प्रयोग किया जाए तो यह बालों को लाभ पहुंचाता है।

Advertisements

 

अपने बालों के लिए करें सही प्रॉडक्ट का चुनाव वैसे तो आजकल बाजार में कई तरह के शैम्पू व कंडीशनर मौजूद हैं जैसे कि मॉइस्‍चराइजिंग, स्मूथनिंग और वॉल्‍यूमजिंग आदि। आपको अपने बालों की उचित देखभाल के लिए शैम्पू व कंडीशनर खरीदते समय बालों की जड़ों और सिरों, दोनों को ध्यान में रखना होता है। अगर आपके सिर की त्वचा ड्राई है व बाल बिलकुल ठीक हैं तो आपको मॉइस्चराइजिंग शैम्पू का चुनाव करें। लेकिन अगर आपका शैम्पू और कंडीशनर दोनों मॉइस्चराइजड हैं तो इससे आपके बाल और भी ज्यादा ऑयली हो सकते हैं। इसलिए दोनों चीज़ों का एक बैलेंस कॉम्बिनेशन बना कर चलें।

Advertisements

 

राशि अनुसार किस देवी देवता की पूजा करनी चाहिए Worship as per Horoscope Learn Astrology

राशि के अनुसार किस भगवान की पूजा करें Worship of god according to Zodiac Sign

हिन्दू ग्रन्थों के अनुसार पृथ्वी पर 33 करोड़ भारतीय देवी देवता हैं। ये सभी देवी देवता विष्णु, शिव या दुर्गा के अवतार हैं। हम सभी उन देवता की पूजा करते हैं जिससे हम जुड़ाव महसूस करते हैं।

अग्नि पुराण के अनुसार, माना जाता है कि अपनी राशि के अनुसार देवता की पूजा करना काफी शुभ फलदायी होता है।  जब आप अपनी राशि अनुसार किसी देवी या फिर देवता की पूजा करते हैं तो इससे आपकी दिव्य शक्ति बढ़ती है और उस देवी-देवता पर भी ग्रहों की स्थिति बदलने का प्रभाव पड़ता है। यह भी माना जाता है कि यदि आपको अपनी राशि पता है तो आप अपने मुख्य गृह की पूजा कर सकते हैं और जो देवता उस गृह का मालिक है उसकी प्रार्थना भी कर सकते हैं। दोस्तों आज हम आपको आपकी राशि के अनुसार बताएँगे कि किस देवी देवता की पूजा करने से आपको तुरंत लाभ मिलेगा.

Advertisements

 

मेष राशि –

मेष राशि का मालिक मंगल ग्रह है। इसलिए मेष राशि के जातको को अपने मंगल गृह को मजबूत करने के लिए भगवान शिवजी की आराधना करनी चाहिए।

वृषभ राशि –

वृष राशि का गृह शुक्र है इसलिए वृष राशि वाले जातको को माता लक्ष्मी जी की के पूजा करना फलदायी रहेगा.

मिथुन राशि –

मिथुन राशि का मालिक गृह बुध है और बुध के देवता “श्रीमननारायण’ हैं। इसलिए बुध राशि के जातको को अपने अच्छे भाग्य के लिए भगवान “श्रीमननारायण’ की आराधना करनी चाहिए।

कर्क राशि

कर्क राशि का मालिक चंद्रमा गृह है। देवी गौरी चंद्रमा की देवी हैं साथ ही गौरी शांति और दया की देवी हैं इसलिए कर्क राशि के जातको को अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए देवी गौरी की पूजा करनी चाहिए।

सिंह राशि –

सिंह राशि का मालिक सूर्य गृह है और इस गृह के मालिक भगवान शिव जी हैं। भगवान शिव को प्रसन्न करना आसान है, इसलिए इस राशि के जातको को  भजनों और पूजा से भगवान शिव को प्रसन्न करना चाहिए.

कन्या राशि

कन्या राशि का गृह बुध है।  बुध गृह के मालिक विष्णु के अवतार भगवान “श्रीमननारायण’ हैं, इसलिए कन्या राशि वाले जातको को अच्छे भाग्य के लिए भगवान “श्रीमननारायण’ की पूजा करनी चाहिए।

Advertisements

 

तुला राशि

तुला राशि का मालिक शुक्र गृह है और शुक्र गृह की स्वामी देवी लक्ष्मी हैं। इसलिए इस राशि के जातक  देवी लक्ष्मी की आराधना करें, इससे आपको सौभाग्य और धन-धान्य की प्राप्ति होगी।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि का मालिक मंगल गृह है। अपने मजबूत करने के लिए वृश्चिक राशि के जातक को भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।

धनु राशि

धनु राशि का स्वामी वृहस्पति गृह है। वृहस्पति के स्वामी “श्री दक्षिणमूर्ती” हैं जो कि भगवान शिव के अवतार हैं साथ ही ये ज्ञान और बुद्धि के देवता है। इसलिए धनु राशि के जातको को इनका प्रभाव प्राप्त करने के लिए “श्री दक्षिणमूर्ती” की पूजा अर्चना करनी चाहिए।

Advertisements

 

मकर राशि –

मकर राशि का स्वामी मंगल है। इसलिए मकर राशि वाले जातको को सुख-समृद्धि के लिए भगवान शिव जी की पूजा आराधना करनी चाहिए।

कुंभ राशि

कुंभ राशि का स्वामी भी मंगल है। भगवान शिव मंगल के मालिक हैं, इसलिए कुंभ राशि वाले जातको को  पवित्र मन से भगवान शिव की आराधना करनी चाहिए।

मीन राशि

मीन राशि का मालिक वृहस्पति गृह है। वृहस्पति के स्वामी “श्री दक्षिणमूर्ती” हैं इसलिए मीन राशि के जातको को “श्री दक्षिणमूर्ती” की पूजा अर्चना करनी चाहिए।

Advertisements

 

अपने लिए बेस्ट हेयर कलर कैसे चुने How to Choose Right Hair Color for Skin Tone

कैसे चुने अपने लिए बेस्ट हेयर कलर How to choose right hair color

आजकल बालों को न्यू लुक देने के लिए बालों में कलर करवाना एक आम बात है। कई लोग हेयर कलर फैशन के लिए करते है तो कई हेयर कलर का प्रयोग अपने सफेद हुए बालों को छुपाने के लिए. 

लेकिन बता दे कि हेयरकलर का चुनाव भी बड़ी सावधानी के साथ किया जाना चाहिए, क्‍योंकि गलत हेयर कलर आपके बालों को खराब भी कर सकता है. अगर आप हेयर कलर करते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखें तो आप इससे होने वाले नुकसान से बच सकते है और अपने लिए एक बेहतर हेयर कलर का चुनाव कर सकते है.

सही हेयर कलर चुनते समय ऐसे कलर का चुनाव करें जो आपके स्किन टोन को कॉम्प्लीमेंट भी करे।

Advertisements

 

अगर आप अपने स्किन टोन के लिए गलत कलर चुनते है तो आप काफी थके हुए से और अधिक उम्र के लग सकते हैं। यदि आप यंग है तो आपको ब्राइट कलर कराने की सलाह दी जाती है जबकि अधिक उम्र वालों पर तुलनात्मक रूप से डार्क शेड अच्छी लगती हैं।

वैसे तो पीली अंडरटोन वाली स्किन के लिए वार्म रंग ज्यादा सूट करते हैं और वहीं गुलाबी रंगत वाली स्किन के लिए कूल कलर. इसलिए अपनी स्किन के आधार पर ही अपने लिए सही हेयर कलर का चुनाव करें.

बता दे कि हेयर कलर के तौर पर ग्रे कलर प्राकृतिक लगता है और यह काले रंग के बालों वाले व्‍यक्‍तियों पर काफी बेहतर भी लगता है. यह कलर सिर्फ 30 के ऊपर की उम्र वाली महिलाओं को ट्राई करना चाहिये। क्योकि यंग लोगो पर ये कलर खराब भी लग सकता है और सकता है कि ग्रे कलर लगाने के बाद आप अपनी उम्र से भी अधिक के लगने लगे.

ग्रे कलर तभी अच्‍छा लगता है जब इसे बालों की केवल एक स्‍ट्रीक पर लगाया जाए। और यदि आपकी स्किन हल्का पीलापन लिए हुए है, तो आपके बालों के लिए डार्क हेयर कलर बेहतर रहेगा। ऐसे में आपको लाइट हेयर कलर का प्रयोग नहीं करना चाहिए.  क्योंकि ये आपके बालों को नेचुरल लुक नहीं देता है।

Advertisements

 

यदि आपकी स्‍किन रेड है तो, भूलकर भी रेड हेयर कलर ना करवाएं। आजकल मार्किट में रेड कलर में भी काफी सारे शेड मौजूद होते हैं। अगर आपकी स्किन गोरी हैं तो, कॉपर या फिर लाइट रेड के लिये जाएं, ना कि ऑरेंज रंग के लिये। ऑलिव रंग वाली लड़कियां ब्‍लू बेस रेड कलर करवा सकती हैं जो कि थोड़ा गहरा लाल होता है।

कई लोग अपने बालों के लिए अकसर प्‍योर ब्‍लैक कलर का ही चुनाव करते है जो बिल्‍कुल भी अच्‍छा नहीं लगता और देखने में एक विग की तरह लगता है इसलिये आप चाहे तो ब्‍लैक कलर की जगह पर डार्क ब्राउन कलर करवाएं। आजकल बालों को कलरफुल कराने के लिए आमतौर पर ब्राउन कलर को सबसे ज्‍यादा यूज किया जाता है। मार्किट में इसके कई शेड्स मौजूद हैं। आप भी अपनी स्किन टोन के हिसाब से कलर का शेड पसंद कर सकते हैं।

Advertisements

 

रिबॉन्डिंग के बाद बालों का ध्यान कैसे रखें How to take care of hairs after rebounding hair tips

जाने कैसे रखें सीधे बालों का ध्यान Top hair care tips for rebounding hairs

लड़कियों को स्ट्रेटनिंग या रिबॉन्डिंग का बहुत शौक होता है। अगर आप भी बालों में रिबॉन्डिंग करवाने की सोच रही हैं या फिर रिबॉन्डिंग करवा चुकीं हैं तो ऐसे में इस बात को जरूर जान लें कि इसके बाद आपको अपने बालों की पहले से ज्यादा केयर करनी होगी,

ताकि आपके बालों को किसी भी तरह का नुकसान ना पहुंचे और आपके बाल हमेशा सुरक्षित रहें। आजकल रिबॉन्डिंग का क्रेज बढ़ता जा रहा है लड़किया क्या लड़के भी अपने बालो पर रिबॉन्डिंग करवाते हैं इसलिए ऐसे में आपको ये ध्यान रखना बहुत जरुरी है कि रिबॉन्डिंग के बाद अपने बालो का ध्यान कैसे रखना चाहिए, तो आज हम आपको बताएंगे कि रिबॉन्डिंग के बाद अपने बालो कि केयर कैसे करनी चाहिए.

Advertisements

 

सही प्रॉडक्ट्स का यूज़ करें (Use of best hair products) –

इस बात का खाश ध्यान रखें कि रिबॉन्डिंग करवाने के बाद आप अपने बालों के लिए शैम्पू, कंडीशनर और सीरम किसी अच्छी क्वालिटी का ही खरीदें। आपने जिस सैलून से रिबॉन्डिंग करवाई है, उन्ही से आप पता करें कि आपको अपने बालो के लिए कौनसे प्रोडक्ट यूज़ करने चाहिए जिससे उन्हें नुकसान न हो. वो आपको सही प्रोडक्ट्स यूज़ करने के बारे में बताएंगे.

बालो को धुप से बचाएं (Protect the hair from the sun) –

बालों को रिबॉन्डिंग करवाने के बाद आप कम से कम एक महीने तक तेज धूप में सीधे ही खुले बालों के साथ न बहार न निकलें बल्कि उन्हें ढककर निकलें। अगर आप बालों को धूप से दूर रखेंगी तो इससे आपके बाल कभी भी बेजान और दोमुंहे नहीं होंगे। इसलिए इस दौरान आप अपने बालों को किसी स्कार्फ से कवर करकर रखें और उसके बाद ही बाहर निकलें इससे आपके बाल सुरक्षित रहेंगे और उन्हें किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं होगा.

तेल का प्रयोग (Use of Oil) –

इस बात का भी जरूर ध्यान रखें कि जब भी आप अपने बालो की रिबॉन्डिंग करवाए तो उसके बाद कम से कमबालो पर 2 महीनों तक बालो में तेल बिलकुल ना लगाएं। अगर आप रिबॉन्डिंग के बाद बालो पर तेल लगाते हैं तो उससे आपके बाल जल्द ही खराब हो सकते हैं. इसलिए ध्यान रखें रिबॉन्डिंग करवाने के बाद बालो को तेल से बचा कर रखें.

Advertisements

 

गरम पानी का यूज़ करें (Do not use of warm water) –

बालो में रिबॉन्डिंग के बाद आप अपने बालों को धोने के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल बिलकुल भी न करें। क्यूकी इससे बाल जड़ों से कमजोर हो जाते हैं और झड़ने भी लगते हैं। गरम पानी से बाल धोने पर आपके बाल बहुत ज्यादा ड्राई भी हो जाते हैं और उनकी चमक भी खत्म हो जाती है. इसलिए खासतौर पर रिबॉन्डिंग के बाद बालो को बिलकुल भी न धोए.

हेयर कलर करें (Do not use of hair color) –

जी हाँ दोस्तों इस बात का भी जरूर ध्यान रखें कि रिबॉन्डिंग किए हुए बालों में कम से कम 6 से 8 महीनों तक कलर ना करवाएं। रिबॉन्डिंग के बाद हेयर कलर करने से आपके बाल बेकार हो सकते हैं और आपके बालों में रूखापन भी आ सकता है.

पानी से भी रखें दूर (Pani se bhi door rakhe) –

रिबॉन्डिंग करवाने के बाद आप कम से कम तीन दिनों तक अपने बालों को पानी से बचाकर रखें अर्थात अपने बालो को वॉश न करें। और इस बात को भी जरूर ध्यान रखें कि अपने बालों को अपने कान के पीछे भी ना करें तथा इसी के साथ इस दौरान रबड़बैंड या किसी भी तरह की क्लिप से बालों को बांधने से भी बचें।

Advertisements

 

ऑनलाइन परीक्षा की तैयारी कैसे करें Online Exam Preparation tips for SSC Bank Railway jobs

ऑनलाइन परीक्षा देते समय ध्यान रखें ये बातें Online Exam Preparation Tips in Hindi

बेहतर टेक्नोलॉजी को देखते हुए आज के समय में लगभग सभी परीक्षाएं ऑनलाइन होने लगी हैं. अचानक से ऑनलाइन परीक्षाएं होने के कारण कई कैंडिडेट परीक्षा में आते हुए प्रश्नो को भी छोड़ आते है और परीक्षा में असफल हो जाते है.

अगर आप भी सरकारी नौकरी परीक्षा की या फिर किसी भी ऑनलाइन एग्जाम की तैयारी कर रहे हों तो सबसे ऑनलाइन परीक्षा कैसे दें. इस बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त कर लें, उसके बाद ही अपनी परीक्षा की तैयारी करें.

ऑनलाइन परीक्षा पैटर्न (Online exams pattern) –

बता दे कि ऑनलाइन परीक्षा पैटर्न लिखित परीक्षा के पैटर्न से बिलकुल अलग होता है. ऑनलाइन एग्जाम में आपको ना कोई ओएमआर शीट दी जाती है और ना ही कोई प्रश्न पत्र. यानी ऑनलाइन परीक्षाओं में आपको कंप्यूटर के सामने बैठकर ही परीक्षा देनी होती है.

Advertisements

 

ऑनलाइन परीक्षा देते समय सबसे पहले कैंडिडेट को कीबोर्ड व माउस की मदद से अपना रोल नंबर टाइप करना होता है और उसके बाद वैब कैमरे से अपनी फोटो (Photo) मिलान सम्बन्धी प्रक्रिया पूर्ण करनी होती है.

कैंडिडेट को परीक्षा देने के लिए माउस से उपयुक्त स्थान को सेलेक्ट  करना होता है, इसके बाद कंप्यूटर की स्क्रीन पर प्रश्न और उनके ऑप्शन आने स्टार्ट हों जाते हैं इसके साथ ही स्क्रीन (Screen) पर कितना समय बचा है यह देखने के लिए टाइमर होता है.

कैंडिडेट को सही ऑप्शन चुनकर माउस की मदद से सेलेक्ट करना होता है. इसके बाद अगले प्रश्न के लिए स्क्रीन पर नेक्स्ट बटन वाले ऑप्शन को सेलेक्ट करना होता है.

अगर कैंडिडेट चाहे तो विकल्प में पुनः परिवर्तन भी कर सकते हैं. नेक्स्ट बटन को सेलेक्ट करने से सभी प्रश्न एक-एक करके आपकी स्क्रीन पर आते रहेंगे. सभी प्रश्न पूर्ण होने के बाद अभ्यर्थी चाहे तो सभी प्रश्नों का पुनः मिलान कर सकते हैं तथा किसी प्रश्न के लिए पहले चुने गए विकल्प में भी बदलाव कर सकते हैं. अंत में परीक्षा समाप्त करने के लिए माउस से उचित स्थान पर सेलेक्ट करना होता है और आपकी परीक्षा समाप्त हो जाती है.

अगर आप किसी भी ऑनलाइन परीक्षा (Online Exam) की तैयारी कर रहे हों तो उसके लिए सबसे पहले आपको कंप्यूटर की बेसिक नॉलेज होनी काफी जरूरी है.

Advertisements

 

टाइम मैनेजमेंट हर परीक्षा के लिए काफी महत्वपूर्ण है. फिर चाहे आप ऑनलाइन परीक्षा की तैयारी कर रहे हों या फिर लिखित परीक्षा की तैयारी. अगर आपका टाइम मैनेजमेंट ही सही नही होगा तो आपके लिए परीक्षा में सफल होना काफी मुश्किल हो सकता है. ऑनलाइन एग्जाम की तैयारी के लिए आप अपने घर पर ही कंप्यूटर में बैठकर परीक्षा की तैयारी करें और टाइम को भी जरूर नोट करें. इससे आपकी अच्छी तैयारी हो जाएगी.

Advertisements

 

राशि अनुसार जाने अपने पार्टनर का स्वभाव Life partner nature according to astrology

राशि अनुसार कैसा होगा आपका जीवनसाथी Life partner nature according to astrology

कहा जाता है कि जीवन में कभी न कभी प्यार सभी को होता है। वैसे तो प्यार की नींव विश्वास पर टिकी होती है। लेकिन इस सब के बावजूद भी हर प्रेमी या प्रेमिका के मन में एक सवाल हमेशा जरूर उठता है कि उसके लाइफ पार्टनर का नेचर कैसा होगा.

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार व्यक्ति का स्वभाव उसके नाम यानी राशि से प्रभावित होता है। अतः आप अपने पार्टनर की राशि जानकर उनके स्वभाव के बारे में काफी कुछ जान सकते है.

मेष राशि

मेष राशि वाले जातक आकर्षक और प्रभावशाली स्वभाव के होते हैं। इस राशि के जातक चाहते हैं कि इनके साथी इन्हे अपने जीवन में सबसे अधिक महत्ता और प्राथमिकता दें। मेष राशि के जातको को किसी और के साथ की गई उनकी तुलना बिलकुल भी पसंद नहीं होती। इस राशि के जातक अपने प्रेमी या जीवनसाथी का अच्छा साथ देने वाले होते है.

Advertisements

 

 वृषभ राशि

वृष राशि के जातक प्रेम में काफी इमोशनल होते हैं। अपने प्रेमी या जीवन साथी के प्रति इनके प्यार की कोई सीमा नहीं होती। इनके रिलेशन बहुत ही मजबूत होते हैं और ये जीवनभर रिश्ता निभाते हैं। वृषभ राशि के जातको का वैवाहिक जीवन खुशाल होता है और इनका साथी भी इनके साथ बहुत सुखी और खुश रहता है।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातक काफी भोले होते है ये किसी की बातों में बहुत जल्द ही आ जाते है. इन लोगो की खास खूबी ये होती है कि ये लोग सबकी मदद के  लिए हमेशा ही आगे रहते है. ये किसी भी व्यक्ति को दुखी नहीं देख सकते. मिथुन राशि के जातक अच्छे लाइफ पार्टनर और अच्छे प्रेमी सिद्ध होते है.

कर्क राशि

कर्क राशि वाले जातक थोड़े मूडी स्वभाव के होते हैं। ये लोग अपने रिश्ते के प्रति काफी ईमानदार होते हैं और उसे पूरी जिम्मेदारी के साथ निभाते हैं। इनके जीवन में विवाह के बाद काफी परिवर्तन आ जाते हैं या यूँ कहिये कि अधिकांश कर्क राशि वालों का भाग्योदय ही शादी के बाद होता है।

सिंह राशि

सिंह राशि के जातक के लोग खुले विचारों वाले होते हैं और आकर्षक व्यक्तित्व के धनी होते हैं। इस राशि के जातक काफी भावुक किस्म के होते है. ये अपने जीवन साथी या प्रेमी के प्रति हमेशा ही वफादार रहते हैं। मनमौजी नेचर के सिंह राशि वाले जातक अपने वैवाहिक जीवन को अंत तक निभाते है.

कन्या राशि

कन्या राशि जातक आकर्षक व्यक्तित्व के धनी होते हैं। इस राशि के प्रेमियों को अच्छे प्रेमियों के श्रेणी में रखा जाता है। ये काफी अच्छे और वफादार जीवन साथी साबित होते हैं। इनका वैवाहिक जीवन काफी मजबूत रिश्ते वाला होता है साथ ही इस राशि के जातको का अपने परिवार के प्रति भी गहरा झुकाव होता है,

तुला राशि

तुला राशि के लोग प्रेम की गहराई को काफी अच्छे से जानते हैं। इस राशि के जातक अकेले रहना पसंद बिलकुल भी पसंद नहीं करते. इस राशि के जातको का व्यक्तित्व काफी आकर्षक होता है जो कि अन्य लोगों को इनकी ओर आकर्षित करता है। बता दे कि इनके लिए प्रेम एक पवित्र बंधन के समान होता है।

Advertisements

 

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि के जातक अच्छे लाइफ पार्टनर और आदर्श प्रेमी होते हैं। ये अपने प्यार के लिए कुछ भी कर सकते हैं और साथ ही सब कुछ त्याग भी सकते हैं। इस राशि के प्रेमी अपने साथी के प्रति पूरी तरह ईमानदार रहने का प्रयास करते हैं। और अपने साथी का साथ हर मोड़ पर साथ देने वाले होते है.

धनु राशि

धनु राशि के प्रेमी खुशमिजाज और संवेदनशील स्वभाव के होते हैं। ये लोग अपने हर पल को खुशी के साथ गुजारना चाहते हैं। इस राशि के जातक अच्छे प्रेमी और लाइफ पार्टनर होते हैं. अपने पार्टनर को खुश रखने के लिए ये लोग हर संभव प्रयास भी करते है.

मकर राशि

मकर राशि के प्रेमी थोड़े जिद्दी नेचर के होते हैं। लेकिन इन लोगो के दिल में जिसके लिए भी प्रेम भावना होती है उनकी बात ये लोग तुरंत मान लेते है. ये लोग अपने पार्टनर की हर बात मानने वाले और अपने जीवन साथी को बहुत प्रेम करने वाले होते है.

Advertisements

 

कुंभ राशि

कुंभ राशि राशि के प्रेमी काफी इमोशनल और हर कार्य को पूरी प्लानिंग और दिल से करने वाले होते हैं। इस राशि के जातक थोड़े मूडी भी होते हैं। इनका प्रेम स्थायी होता है। इस राशि के जातक थोड़े चंचल स्वभाव के होते है. मन से चंचल होने कारण इन्हें हमेशा नया-नया करने की आदत होती है।

मीन राशि

मीन राशि के प्रेमियों का स्वभाव मछली के जैसा होता है। इस राशि के जातक अति भावुक होते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अति भावुकता के कारण इन्हें कोई भी आसानी से प्रभावित कर सकता है। वैसे तो मीन राशि के जातको की लव लाइफ सामान्य ही रहती है। इनकी सोच होती है कि इनका लव पार्टनर इनके प्रति पूर्ण सहानुभूति रखे और समझदार हो।

Advertisements