Category Archives: अनोखे घरेलू टिप्स

छठ पूजा शुभ मुहूर्त पूजा विधि 2017 Chhath Puja 2017 Date Pooja Vidhi

छठ पूजा विधि तारीख व समय 2017 Chhath Puja vidhi 2017 Date and Time

हिन्दू धर्म में छठ पूजा त्यौहार का अत्यंत महत्त्व है और इस पर्व को पुरुष एवं स्त्री एक सामान रूप से मनाते हैं. यह त्योहार एक साल में दो बार मनाया जाता है – पहली बार चैत्र माह में व दूसरी बार कार्तिक माह में.

चैत्र शुक्लपक्ष की षष्ठी पर मनाए जाने वाले छठ त्यौहार को चैती छठ के नाम से जाना जाता है. जबकि कार्तिक शुक्लपक्ष की षष्ठी पर मनाए जाने वाले इस त्योहार को कार्तिकी छठ कहा जाता है. छठ पूजा चार दिनों का पर्व है। अतः इसकी शुरुआत कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को और समाप्ति कार्तिक शुक्ल सप्तमी को होती है। इस दौरान व्रत रखने वाले लोग लगातार 36 घंटे का व्रत रखते हैं और इस दौरान वे पानी भी ग्रहण नहीं करते। माना जाता है कि यह त्यौहार पारिवारिक सुख-समृद्धि और मनोवांछित फल-प्राप्ति के लिए मनाया जाता है. भारत में छठ पूजा भगवान सूर्य की उपासना का सबसे प्रसिद्ध हिंदू पर्व है. आज हम बात करेंगे साल 2018 में छठ पूजा का शुभ – मुहूर्त और सामग्री के बारे में.

पूजन सामग्री –

छठ पूजन सामग्री में बॉस के फट्टे से बने दौरा, डलिया और डगरा पानी वाला नारियल, गन्ने जिसमें पत्ते लगे हो, शकरकंदी, हल्दी और अदरक का पौधा, शहद की डिब्बी, पान और साबूत सुपारी, सिंदूर, कपूर, कुमकुम, अक्षत, चन्दन, मिठाई,  घर में बने हुए पकवान आदि शामिल किये जाते है.

 Advertisements

छठ पूजा 2017 शुभ मुहूर्त –

छठ पर्व तिथि – बृहस्पतिवार 26 अक्तूबर 2017

छठ तिथि को सूर्योदय का समय – सुबह 06 बजकर 28 मिनट (26 अक्तूबर 2017)

सूर्यास्त, छठ तिथि – सांय काल 05 बजकर 40 मिनट (26 अक्तूबर 2017)

षष्ठी तिथि प्रारंभ – सुबह 09 बजकर 37 मिनट से (25 अक्तूबर 2017)

षष्ठी तिथि समाप्त – दोपहर 12 बजकर 15 मिनट तक (26 अक्तूबर 2017)

छठ पूजा व्रत विधि –

सबसे पहले बता दे कि छठ पूजा पर्व अलग अलग क्षेत्रों में भिन्न भिन्न तरीके से मनाया जाता है. यही वजह है कि अलग अलग जगहों पर पूजा विधि में अंतर पाया गया है. 

 

छठ पूजा पर्व चार दिनों का होता है। भैयादूज के तीसरे दिन से यह शुरू होता है। पहले दिन सेन्धा नमक, घी से बना हुआ अरवा चावल और कद्दू की सब्जी प्रसाद के रूप में ली जाती है। दूसरे दिन से व्रत शुरू है। व्रत रखने वाले लोग दिनभर भोजन और जल त्याग कर शाम करीब 7 बजे से खीर बनाकर, पूजा करने के उपरान्त प्रसाद ग्रहण करते हैं, जिसे खरना कहा जाता हैं। छठ पूजा के तीसरे दिन डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य यानी दूध अर्पण करते हैं। और चौथे अथार्त अंतिम दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य चढ़ाते हैं। ध्यान रखे कि पूजा में पवित्रता का विशेष महत्व होता है. इस दिन लहसून, प्याज वर्जित होता है।

 Advertisements

Top best Refrigerator cleaning tips जाने कैसे करें फ्रिज की सफाई

How to get rid of fridge smell फ्रिज की बदबू से कैसे छुटकारा पाएं

महिलाओं पर घर की पूरी जिम्मेदारी होती है छोटी से छोटी चीज को लेकर बड़ी से बड़ी चीज को भी महिलाओं को देखना होता है. हर महिला चाहती है कि उसके घर कि हर एक चीज हमेशा साफ़ सुथरी रहे इसलिए वह उनकी देखरेख के लिए बहुत ही सजग रहती हैं।

महिलाएं खासकर अपने फ्रिज की सफाई के लिए बेहद पेरशान रहती हैं, क्युकी फ्रीज़ में बहुत सा सामान रखने के कारण वो जल्द ही गन्दा हो जाता है और कई बार बदबू भी आने लगती है. तो दोस्तों आज हम आपको बताएंगे कि कैसे आप अपने फ्रीज़ को कम समय में सही तरीके से साफ़ कर पाएंगे.

फ्रिज को खाली करें

जी हाँ दोस्तों कई बार फ्रीज़ कि सफाई करते समय हम ये गलती करते हैं कि बिना फ्रीज़ को खाली करे ही उसकी सफाई करना शुरू कर देते हैं, फ्रिज को साफ करने से पहले सबसे पहले उसे मेन स्विच से बंद कर पूरा खाली करलें और उसमें मौजूद सभी फलों और सब्जियों को बहार निकाल दें जिससे कि फ्रिज के अंदर की सफाई करने में किसी प्रकार की कोई समस्या न हो और आप आसानी से सफाई कर पाओ।

 Advertisements

डी फ्रॉस्ट करें

फ्रिज को पूरा खाली करने के बाद अब इसे डी फ्रॉस्ट कर दें और फ्रिज के नीचे बेस पर किसी पेपर को बिछा दें। जिससे कि अगर बर्फ पिघले तो वह नीचे न जाए और पेपर उसे सोख ले नहीं तो आपके घर में पूरा पानी ही पानी हो जायेगा और आपके लिए काम भी बाद जायेगा।

फ्रिज में बदबू आने पर क्या करें

कई बार फ्रिज की सफाई तो हो जाती है पर फिर भी उसकी बदबू नहीं जाती है। इससे फ्रिज साफ करने पर भी अच्छा नहीं लगता। अगर आप इसकी बदबू को हटाना चाहती हैं तो नींबू या बेकिंग सोडे से फ्रिज को साफ करें। इससे फ्रिज की बदबू जल्द ही चली जाएगी।

नमक के पानी का यूज़ करें

फ्रिज के अंदर की सफाई करने के लिए एक कटोरी पानी में गुनगुना पानी ले लें। इसके बाद इस पानी में नमक घोल लें और फिर इस पानी में कपड़े की मदद से फ्रिज के भीतर अच्छे से पोछ लें। पोछने के बाद  फ्रिज को कुछ देर के लिए खुला छोड़ दें इससे फ्रीज़ तो साफ़ होगा ही साथ ही फ्रीज़ से बदबू भी नहीं आएगी.

 Advertisements

ज्यादा दिनों तक खाना रखें

फ्रिज की सफाई करने के बाद इस बात का भी खास ध्यान रखें कि इसमें ज्यादा दिनों तक किसी भी सब्जी या फल को न रखें अर्थात फ्रीज़ में कभी भी कोई भी चीज ज्यादा दिनों तक नहीं रखनी चाहिए। कई बार सब्जियों की महक हमारे फ्रिज में आ जाती है और फिर जाती नहीं है इसलिए ज्यादा दिनों तक सब्जी फ्रीज़ में न रखें।

हर सामान ढक कर रखें

जी हाँ दोस्तों फ्रीज़ की अच्छी तरीके से सफाई करने के बाद उसमें हर समान को ढक कर रखें। इससे खाने की स्मैल दूसरी चिजों में नहीं जाएगी। इसके अलावा फ्रिज में हमेशा आधा नींबू काटकर रखें इससे फ्रिज में से बदबू नहीं आती है।

गरम दूध और सब्जी रखें

जी हाँ दोस्तों कुछ महिलाएं गर्म सब्जी या दूध फ्रिज में रख देती हैं जिससे वह खराब हो सकता है। कभी भी ऐसा नहीं करना चाहिए, हमेशा खाने को ठंडा करके ही फ्रिज में रखें।

 Advertisements

भैया दूज शुभ मुहूर्त और पूजा विधि 2017 Bhai Duj Pooja Muhurat 2017

भैया दूज कैसे मनाए 2017 Bhai duj 2017 Date and Auspicious Time 2017

भाई दूज का त्यौहार कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाए जाने वाला पर्व है. इस पर्व को यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता हैं। इस दिन बहने रोली और अक्षत से अपने भाई का तिलक कर उसके उज्ज्वल भविष्य और लम्बी उम्र के लिए आशीष देती हैं।

भाई-बहन के परस्पर प्रेम और स्नेह को दर्शाने वाला यह त्यौहार दीपावली के अगले दूसरे दिन मनाया जाता है. इस बार भैया दूज का पर्व 21 अक्टूबर शनिवार के दिन है. आज हम आपको भाई दूज तिलक का शुभ – मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में बताएँगे.

भाई दूज पर तिलक या  टिका करने का शुभ मुहूर्त –

दोपहर – 01 बजकर 12 मिनट से 03 बजकर 27 मिनट तक है। अथार्त तिलक करने की अवधि 2 घंटे 14 मिनट की है।

कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीय तिथि 21 अक्टूबर 2017 सुबह 01 बजकर 37 मिनट से शुरु होकर अगले दिन 22 अक्टूबर 2017 शुभ 03:00 बजे समाप्त होगी।

भाई दूज पूजा सामग्री

भाई दूज पर्व पर आरती की थाली में टीका, अक्षत (चावल), नारियल, गोला (सूखा नारियल), मिठाई, दीपक, धूप, सिर ढंकने के लिए रुमाल या छोटा तोलिया व कलावा आदि.

भैया दूज के दिन ऐसे करें पूजा –

सबसे पहले बता दे कि हर क्षेत्र के अनुसार पूजा करने का विधान अलग-अलग होता है. यही वजह है कि अलग अलग क्षेत्र में पूजा करने की विधि में अंतर पाया गया है। भाई दूज के दिन सभी बहने आसन पर चावल के घोल से चौक तैयार करती है. अब इस चौक पर अपने भाई को बैठा कर बहनें उनके हाथों की पूजा करती हैं. और इसके बाद अपने भाई को  रोली एवं अक्षत से तिलक लगाकर,  कलावा बांधती है और अपने भाई को मिठाई, मिश्री या फिर माखन खिलाती है. इसके बाद बहने अपने भाई की लम्बी उम्र और उज्ज्वल भविष्य के लिए प्रार्थना करती है और भाई भी ख़ुशी से अपनी बहन को कुछ उपहार या दक्षिणा देता है.

 Advertisements

How to use of broom according astrology वास्तुअनुसार झाड़ू का इस्तेमाल कैसे करें

Broom vastu tips in hindi झाड़ू से जुड़े वास्तु टिप्स हिंदी में

घर पर अक्सर आपने बड़े-बूढ़ों से सुना होगा कि झाड़ू को उल्‍टा मत रखो क्योंकि यह बुरा होता है या फिर झाड़ू पर पैर मत मारो लक्ष्‍मी मां नाराज हो जाएंगी आदि. वास्‍तु के अनुसार घर की हर चीज का बहुत महत्‍व होता है.

उसी प्रकार झाड़ू से जुड़ी और भी कई बातें हैं जो आप नहीं सायद आप नहीं जानते होंगे जैसा की सभी जानते ही है की झाड़ू को माँ लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है इसलिए झाड़ू से जुडी बहुत सी ऐसी बाते हैं जो आपको ध्यान में रखनी बहुत जरुरी होती हैं, जी हाँ दोस्तों आज हम आपको बताएंगे की झाड़ू से जुडी ऐसी कौनसी बातें हैं जो आपको ध्यान में रखनी बहुत जरुरी होती हैं.

  1. पौराणिक ग्रंथों में कहा गया है कि अंधेरा होने के बाद घर में झाड़ू लगाना अशुभ माना जाता है, जी हाँ दोस्तों इस बात का खाश ध्यान रखें कि अँधेरा होने के बाद कभी भी झाड़ू नहीं लगाना चाहिए इससे माँ लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं.
  2. इस बात का भी खाश ध्यान रखें कि जब भी परिवार का कोई सदस्य घर से बाहर जाए तो तुरंत झाड़ू नहीं लगाना चाहिए ये बिलकुल भी शुभ नहीं नहीं माना जाता है. अगर घर से कोई भी बहार जाता है तो उनके जाने के बाद 1 या 2 घंटे बाद ही झाड़ू लगाएं.

     Advertisements

     

  3. शास्त्रों में कहा गया है कि झाड़ू पर पैर नहीं रखना चाहिए ये बिलकुल भी अच्छा नहीं माना जाता है. क्यूकी ऐसा कहा जाता है कि ऐसा करने से लक्ष्‍मी मां रुष्‍ट हो जाती हैं और आपको धन संबंधी परेशानिया हो सकती हैं इसलिए कभी भी झाड़ू पर पैर नहीं लगाना चाहिए.
  4. ऐसा कहा जाता है कि कभी भी घर में झाड़ू को उल्टा करके नहीं रखना चाहिए और साथ ही झाड़ू को घर पर छुपा कर रखना चाहिए. कहते हैं इससे घर में कलह बढ़ती है अर्थात आपके घर सुख शांति नहीं रहती है.
  5. हमेशा झाड़ू का आदर करना चाहिए अगर हम झाड़ू का आदर करते हैं तो यह महालक्ष्मी की प्रसन्नता का संकेत होता है.
  6. झाड़ू को हमेशा ऐसी जगह पर रखना चाहिए जहां से यह घर या बाहर के किसी भी सदस्य को दिखाई नहीं दे. ये शुभ नहीं माना जाता है इसलिए झाड़ू को हमेशा छुपा कर ही रखना चाहिए.

  1. ऐसा कहा जाता है कि घर में अगर कोई छोटा बच्चा अचानक से झाड़ू लगाने लगे या उससे खेलने लगे तो कहते हैं कि इससे घर में अनचाहे मेहमान आने के योग बनते हैं.
  2. अगर सपने में आपको कोई नया झाड़ू लेकर खड़ा दिखे है तो यह सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है अर्थात आपके साथ जरूर कुछ न कुछ अच्छा होने वाला है या जल्द ही आपको धन संबंधी लाभ होने वाला है.

     Advertisements

     

दिवाली के दिन जरूर करें ये काम Diwali Lakshmi Pooja for wealth and money 2017

दिवाली लक्ष्मी पूजन के दिन क्या करना चाहिए Diwali puja Vidhi 2017

दिवाली के त्यौहार में सभी लोग अपने घर में महालक्ष्मी के स्वागत की तैयारियों में लगे है. इस दिन सभी के घरो में साफ़ सफाई और सजावट देखने को मिलती है. माता लक्ष्मी का आगमन हो इसलिए सभी लोग अपने घरो में दिये जलाते है और लक्ष्मी पूजन करते है.

आज हम आपको लक्ष्मी आगमन हेतु कुछ ऐसे काम बताएँगे जिन्हे दिवाली के दिन जरूर करना चाहिए.

दीवाली की शाम अपने घर के मुख्य दरवाजे पर दोनों ओर दिये जलाकर लाल रंग की रंगोली से सजाएं। दीपक इतने बड़े होने चाहिए कि सारी रात जलते रहें. माना जाता है कि माता लक्ष्मी दिवाली की रात धरती पर भ्रमण करती हैं और जिस घर में सात्विक वातावरण रहता है। उस घर में माता रानी अपना स्थायी निवास बना लेती हैं। इसलिए इस दिन घर के मुख्य द्वार पर दिये अवश्य सजाये.

दीप पूजन करने के बाद सबसे पहले मंदिर में दिये जलाये और फिर घर में दीए सजाएं। कोशिश करें कि दीवाली की रात माता लक्ष्मी जी के सामने घी का दीया पूरी रात जलते रहे.

वास्तु के अनुसार ईशान दिशा यानी अथार्त उत्तर-पूर्व दिशा में पूजन करना सबसे शुभ माना जाता है. पूर्व-मध्य और उत्तर-मध्य के किसी भी कमरे में पूजन करना शुभ फल प्रदान करता है। घर के मध्य भाग ब्रह्म स्थान माना जाता है .

 Advertisements

यहां भी आप लक्ष्मी पूजन कर सकते हैं। लक्ष्मी पूजन  करते समय पूर्व या पश्चिम के ओर मुख करके दीप जलाये क्योकि ऐसा करने से घर से नकारात्मक ऊर्जा दूर होने के साथ ही दरिद्रता दूर होती है.

दीवाली की रात ध्यान रखें कि अपने घर के सभी कमरों के मेन गेट पर गेहूं की ढेरियां बनाकर उसके ऊपर शुद्ध घी का दीपक जलाएं। कोशिश करें कि ये दिये पूरी रात भर जलते रहें। इससे माता लक्ष्मी का घर में आगमन होता है और प्रत्येक काम में सफलता मिलती है।

 Advertisements

Diwali 2017 Best vastu tips for home happiness दिवाली की रात इन जानवरों को देखना कैसा होता है

How to please ma Lakshmi on Diwali 2017 दिवाली में माँ लक्ष्मी को कैसे खुश करे

दिवाली का त्योहार आते ही हर जगह चहल पहल होने लगती है। दिवाली ऐसा त्योहार है जिसका इंतजार सभी लोग करते हैं। इस दिन गणेश भगवान और मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। मान्यता है कि दिवाली के समय कुछ ऐसे संकेत मिलते हैं,

जिससे पता चलता है कि मां लक्ष्मी का आशीर्वाद आप अपर है। जी हाँ दोस्तों कई ऐसी मान्यताएं है जो आपको इस दिन बताएंगी की आपके ऊपर माता लक्ष्मी का आशीर्वाद है या नहीं है। आज हम आपको बताएंगे की दिवाली के रात अगर आपको ये जानवर दीखते हैं तो आपके लिओए बहुत शुभ होता है.

छिपकली का दिखना

दोस्तों आप सोच रहें होगे कि ऐसा तो होता ही रहता है क्योंकि दिवाली पर क्या छिपकली को आम दिनों को में भी आसानी से घर की दीवार पर देखा जा सकता है। लेकिन ये बहुत ही कम होता है कि आपको दिवाली वाले दिन छिपकली दीवार पर दिखे। जी हाँ अगर दिवाली के दिन आपको छिपकली दीवार पर दिख जाये तो ये बहुत ही शुभ माना जाता है इसका मतलब आपको धनलाभ होगा और साथ ही माँ लक्ष्मी का आशीर्वाद आप पर बना रहेगा.

 Advertisements

छछूंदर का दिखना

जी हाँ दोस्तों ये तो आप जानते ही होंगे कि छछूंदर को घर पर आना या घर पर दिखना बहुत अच्छा माना जाता है, अर्थात इनका घर में दिखना बहुत ही शुभ संकेत होता है। लेकिन ये भी मान्यता है कि अगर आपको दिवाली वाले दिन छछूंदर दिख जाए तो ये अभूत ही शुभ माना जाता है हजी हाँ आपको धन लाभ भी होता है और आने वाले समय में कभी भी धन संबंधी परेशानियाँ नहीं होती हैं.

बिल्ली देखना

जी हाँ दिवाली में अगर बिल्ली आपके घर में प्रवेश कर जाए तो ये शुभ होता है और आपके घर में रखा दूध पी जाए तो ये माता लक्ष्मी के आने के संकेत होते हैं।

उल्लू का दिखना

जैसा कि सभी जानते ही हैं कि नवरात्रि में उल्लू का दिखना शुभ संकेत माना जाता है। उल्लू हमेशा रात के अंधेरे में ही निकलता है इसलिए अगर दिवाली वाली रात को आपको उल्लू नजर आ जाए तो समझिए कि आपके घर में लक्ष्मी मां कृपा कि लाने वाली है अर्थात आपको धनलाभ होने वाला है।

 Advertisements

लक्ष्मी पूजन पर जरूर चढ़ाये माँ को ये 5 भोग Diwali 2017 Laxmi pujan

दीवाली पूजा पर जरूर चढ़ाये माँ को ये 5 भोग Lakshmi Pooja on Deepawali 2017

हम सभी लोग धन की देवी मां लक्ष्मी को खुश करने के लिए और उनकी विशेष कृपा पाने के लिए हर तरह की  कोशिश करते है. खासतौर पर दीवाली के समय. माना जाता है कि दीवाली के दिन मां लक्ष्मी जी घर में साक्षात् वास करती है.

इसलिए इस दिन माँ लक्ष्मी को खुश करने के लिए उनकी पूजा के दौरान उन्हें पसंदीदा प्रसाद चढ़ाना चाहिए। आज हम बात करेंगे माँ लक्ष्मी के उन 5 पसंदीदा प्रसाद के बारे में. जिनसे माँ लक्ष्मी प्रसन्न होती है और अपने भक्तो के कष्टो को दूर करती है.

मखाना –

कहा जाता है कि मां लक्ष्मी को पानी में उगने वाला फल मखाना बहुत अधिक पसंद है। इसका एक कारण यह भी है कि मखाना जल में एक कठोर आवरण में बढ़ता है और यह पूरी तरह से पवित्र और शुद्ध होता है. मखाने का प्रयोग यज्ञ और हवन में भी किया जाता है। इस दिन पूजा के दौरान माँ लक्ष्मी के सामने मखाने भी जरूर रखें.

जल सिंघाड़ा –

जल सिंघाड़ा, माता लक्ष्मी के प्रिय फलों में से एक है. और इस समय यह बाजारों में आसानी से भी मिल जाते है. सिंघाड़ा एक मौसमी फल है जो जल में पैदा होता है। दीवाली के दिन माता लक्ष्मी की पूजा के दौरान इन्हे भी अवश्य चढ़ाये.

नारियल –

नारियल अथार्त श्रीफल माता लक्ष्मी का प्रिय फल है. नारियल कठोर आवरण से ढंका रहता है जिससे यह पूरी तरह से शुद्ध और पवित्र रहता है। इस दिन माता लक्ष्मी को पूजा के दौरान नारियल का लड्डू, कच्चा नारियल और जल से भरा नारियल अर्पित करना चाहिए. ऐसा करने से माँ लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

 Advertisements

जल सिंघार और बताशे –

माना जाता है मखाना, जल सिंघार और बताशे ये तीनों चीजे ही चन्द्रमा से संबंधित हैं।और चन्द्रमा को माता लक्ष्मी का भाई माना गया है। चन्द्रमा से सम्बन्धित होने के कारण बताशे मां लक्ष्मी को अधिक प्रिय हैं। यही कारण है कि दीवाली के दिन बताशे और चीनी के खिलौने लक्ष्मी माता को अर्पित किए जाते हैं।

पान –

धन की देवी माँ लक्ष्मी को पान भी अधिक प्रिय है। इसलिए पूजा के बाद देवी को पान अवश्य अर्पित करें. ऐसा करने से हमें माता प्रसन्न होती है और सार भर पैसो की अच्छी आवक रहती है.

 Advertisements

मोबाइल खरीदते समय ध्यान रखें ये बातें How to buy Best Smartphone 2017

स्मार्टफोन खरीदते समय याद रखें ये बातें How to select best smartphone

आजकल स्मार्टफोन हमारे जीवन का एक सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका हैं। कई लोग मजोरंजन के लिए स्मार्टफोन रखते है तो कई लोग अपने महत्वपूर्ण काम निपटाने के लिए. आजकल स्मार्ट बनने के लिए सभी लोग स्मार्टफोन खरीद रहे है.

लेकिन कई बार हम स्मार्टफ़ोने खरीदते समय कुछ ऐसी महत्वपूर्ण बातों को ध्यान रखना भूल जाते है जिससे हमारी मेहनत की कमाई दुब जाती है. और हम उसे कुछ सेकंड हैंड मोबाइल के प्राइस में बेच देते है. ऐसे में, अगर आप भी अपने लिए नया स्मार्टफोन खरीदने के बारे में सोच रहे है तो आज हम आपको कुछ ऐसी खास बातें बताने जा रहे है जो आपके बहुत काम की साबित हो सकती हैं।

सबसे पहली बात, स्मार्टफ़ोने खरीदने से पहले एक बार अपनी जरूरतों को जरूर जान ले. दूसरों के कहने पर ना जाये. क्योकि आपका एक गलत फैसला आपको घाटे में डाल सकता है.  हमेशा ओएस, प्रोसेसर, रैम, इंटरनल मेमोरी, कैमरा, बैटरी और ब्रांड आदि बातों को जानकर ही स्मार्टफ़ोने खरीदने का डिसिशन लें।

स्मार्टफोन खरीदते समय एक बार हार्डवयेर स्पेसिफकेशन पर भी जरूर ध्यान दे. बजट फोन का मतलब यह बिलकुल भी नहीं कि यह एंट्री लेवल हार्डवेयर पर ही चलेगा। रैम (जितना ज्यादा उतना बेहतर), प्रोसेसर (ओक्टा कोर आसानी से उपलब्ध है) व स्टोरेज अवेलेबिलिटी को भी जरूर चेक करें। इसके साथ ही स्मार्टफोन की डिस्प्ले साइज, रिजॉल्यूशन, कनेक्टिविटी ऑप्शन, बैटरी कैपेसिटी पर भी जरूर ध्यान दे.

आज के समय में स्मार्टफोन्स यूजर मोबाइल की एक समस्या से काफी परेशान रहते है वो है बैटरी के जल्दी लो होने से और देर से चार्ज होने से। इसलिए इस परेशानी से दूर रहने के लिए अधिक क्षमता वाली बैटरी (2800 एमएएच से अधिक) वाले स्मार्टफ़ोने का ही चुनाव करें। वैसे आजकल बाजार में भिन्न – भिन्न क्षमता वाले पावरबैंक भी उपलब्ध हैं, जोकि आप अपनी सुविधानुसार खरीद सकते है.

आजकल मार्किट में 16जीबी, 32जीबी और 64जीबी इंटरनल मेमोरी तक के मोबाइल उपलब्ध हैं लेकिन अधिकांश में मेमोरी कार्ड स्लॉट नहीं दिया जाता है। इसलिए अपनी जरूरत से अनुसार ही आप इंटरनल मेमोरी का चुनाव करें। कई स्मार्टफोन में आपको 8जीबी में लगभग 6.2 जीबी और 16जीबी में लगभग 12.4जीबी स्पेस ही यूज करने को मिल पाता है। कई बार कम इंटरनल मेमोरी के कारण जरूरी फाइल्स नहीं आ पाती और इसके अलावा मोबाइल भी स्लो हो जाता है।

यदि आप अपने स्मार्टफोन में अच्छा कैमरा चाहते है तो रिज़ॉल्यूशन, रियर कैमरा, फ्रंट कैमरा, एलईडी फ्लैश, ऑटोफोकस और वीडियो रिकॉर्डिंग के बारे में सारी जानकारी पता कर ले. 5 मेगापिक्सल का रियर कैमरा बेसिक फ़ीचर माना जाता है, और इससे नीचे के कैमरे फोटोग्राफी के लिए उपयुक्त नहीं है. अगर आप सेल्फी लेने के शौकीन है या फिर वीडियो चैटिंग करना पसंद करता है तो फ्रंट कैमरे के बारे में भी जरूर रिसर्च कर लें। अच्छी सेल्फी के लिए आपको कम से कम 5 मेगापिक्सल के फ्रंट कैमरे की जरूरत पड़ेगी.

 Advertisements

कौन सी वाशिंग मशीन है बेहतर How to select Best Washing Machine buying Tips

सेमी ऑटोमैटिक – फुल्ली ऑटोमैटिक वाशिंग मशीन कौन सी बेहतर Washing Machine Buying Tips Semi fully automatic washing machine

आज के समय में वॉशिंग मशीन आम गृहिणियों से लेकर कामकाजी महिलाओं के लिए बहुत ही आवश्यक उपकरण है. क्योकि इससे समय की काफी बचत होती है साथ ही कपड़े धोने में ज्यादा मेहनत भीं नहीं लगती.

कई लोग वाशिंग मशीन खरीदते समय काफी कंफ्यूज हो जाते है कि कौन सी वाशिंग मशीन ज्यादा बेहतर रहेगी ऑटोमेटिक या सेमीऑटोमेटिक. आज हम आपको सेमी और आटोमेटिक वाशिंग मशीन के फीचर्स के बारे में बताएँगे इन्हे जानकार आप अपनी आवश्यकता अनुसार बेस्ट वाशिंग मशीन का चयन कर सकते है.

वाशिंग मशीन खरीदते समय अपने परिवार के सदस्यों की संख्या को भी जरूर ध्यान में रखे. 6 किलोग्राम की वॉशिंग मशीन में दस कपड़े धोने की क्षमता होती है। इसलिए परिवार के सदस्यों की संख्या ध्यान में रखते हुए इससे अधिक क्षमता की वॉशिंग मशीन खरीद सकते हैं।

सेमी ऑटोमेटिक वॉशिंग मशीन में हमें कपड़ों को वॉश टब से स्पिन टब में रखना पड़ता है, और वहीं फुल ऑटोमेटिक मशीन में केवल वॉश प्रोग्राम सिलेक्ट करने की आवश्यकता पड़ती है और बाकी काम मशीन खुद-ब-खुद कर देती है.

अगर आप चाहते है कि बिजली और पानी ज्यादा बर्बाद ना हो तो सेमी ऑटोमैटिक वाशिंग मशीन ही ख़रीदे क्योंकि सेमी ऑटोमैटिक वाशिंग मशीन फुल्ली ऑटोमैटिक वाशिंग मशीन की तुलना में कम पानी और बिजली खर्च करती है।

यदि आपके घर में वाशिंग मशीन रखने के लिए स्पेस कम है तो आप फुल्ली ऑटोमैटिक वाशिंग मशीन  खरीद सकते है. क्योकि सेमी ऑटोमैटिक वाशिंग मशीन काफी बड़ी होती है जो काफी स्पेस लेती है.

मार्किट में कई सारी वाशिंग मशीन कपड़ो का कम लोड लेती है और कई मशीन ज्यादा। इसलिए वाशिंग मशीन खरीदने समय एक बार मशीन का लोडिंग ऑप्शन भी जरूर चेक कर लें।

वाशिंग मशीन लेते समय वाशिंग मशीन में टेम्परेचर कंट्रोल करने वाला हीटर जरूर चेक कर लें। मशीन में टेम्परेचर कंट्रोल हीटर होने से ये वाशिंग मशीन में अपने आप टेम्परेचर कंट्रोल करता है।

वाशिंग मशीन खरीदने से पहले एक बार वाशिंग मशीन के ड्रम का मटेरियल भी जरूर देख लें कि ड्रम किसका बना है। ध्यान रहें कि वाशिंग मशीन का ड्रम प्लास्टिक या स्टेनलेस स्टील से बना होना चाहिए।

 Advertisements

Diwali shopping tips in Hindi दिवाली 2017 शॉपिंग करते समय जरूर ध्यान रखें ये बातें

How to do perfect shopping in Diwali 2017 दिवाली में शॉपिंग करने के आसान तरीके 

दिवाली त्यौहारों में सबसे बड़ा पर्व माना जाता है। इस पर्व का हर व्यक्ति बहुत बेसब्री से इतंजार करता है। जैसा की सभी जानते ही हैं कि इस त्यौहार की शुरुआत धनतेरस से ही हो जाती है और यह भाई दूज तक चलता है।

इस अवसर पर हर कोई अपने दोस्तो और प्रियजनों को उपहार आदि देते ही हैं। हर व्यक्ति दिवाली पर जमकर शापिंग करता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि दिवाली या धनतेरस पर खरीददारी करते हुए किन- किन बातों का ध्यान रखना बहुत जरुरी है। जी हाँ दोस्तों आज हम आपको बताएंगे कि  दिवाली कि शॉपिंग करते समय किन किन बातो का ध्यान रखना बहुत जरुरी है.

  1. ये तो आप सभी जानते ही हैं कि माता लक्ष्मी को लाल और चमकीला रंग बेहद पसंद होते हैं। इसलिए अगर आप दिवाली में कपड़ो कि शॉपिंग कर रहे हैं तो डार्क कलर के कपडे खरीदें जैसे आप लाल, नारंगी और पिले आदि रंग के कपड़े खरीद सकते हैं, इससे मां लक्ष्मी की कृपा आप पर हमेशा बनी रहेगी, और कोशिश करे कि दिवाली के दिन रंग बिरंगे अर्थात डार्क कलर के कपड़े ही पहनें.
  2. दोस्तों इस बात का भी खाश ध्यान रखें कि दीवाली पर अगर आप बर्तन खरीदने जा रहे हैं तो कोशिश करें कि स्टील के बर्तन न खरीदे क्यूकी इन बर्तनों में लोहा मिक्स होता है अगर आपको खरीदने ही हैं तो दिवाली के बाद खरीद लें पर दिवाली या धनतेरस पर न खरीदें। शास्त्रों के अनुसार कहा जाता है कि दीवाली और धनतेरस पर लोहा खरीदना घर की उन्नति के लिए शुभ नहीं होता है। इस शुभ अवसर पर चांदी या सोने से बनी कोई भी छोटी-मोटी चीज आप खरीद सकते हैं। चांदी-सोने के बर्तन खरीदने से मां लक्ष्मी बहुत खुश होती है।

     Advertisements

     

  3. अगर दिवाली कि शॉपिंग कर रहे हैं तो एक बात का जरूर ध्यान रखें कि दीवाली की खरीददारी करते समय घर पर कौड़ी जरूर खरीदकर लाएं ऐसी मान्यता है कि कौड़ी लक्ष्मी जी का प्रतीक होता है जी हाँ दोस्तों कोड़िया माँ लक्ष्मी को बहुत प्रिय होती हैं और इसे खरीदने से मां लक्ष्मी बहुत खुश होती हैं और आप पर हमेशा उनका आशीर्वाद बना रहता है इससे आपके घर की धन में भी वृद्धि होती है और कभी भी आपको धन संबंधी परेशानियाँ नहीं होती हैं।
  4. दिवाली से पहले धनतेरस के दिन अगर आप सामान खरीद रहे हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि तेल रखने वाला कोई बर्तन घर पर खरीदकर न लाए। जी हाँ धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ऐसा माना जाता है की धनतेरस के दिन तेल रखने वाले बर्तन को नहीं खरीदना चाहिए ये सही नहीं माना जाता है।

  1. दोस्तों एक बाद हमेशा ध्यान रखें कि दिवाली से पहले किसी को भी व्यक्ति को चाहे वो आपका कितना ही खाश क्यों न हो पर उसे गिफ्ट में भगवान की मूर्ति या शंख नही देना चाहिए। कहा जाता है ऐसा करने से लक्ष्मी जी घर से चली जाती हैं। इसलिए ध्यान रखें कि दिवाली से पहले किसी को भी भगवन कि मूर्ति या शंख उपहार में न दें.
  2. दिवाली कि शॉपिंग करते समय हम कई बार एक बात भूल जाते हैं कि हमारा बजट कितना हैं जी हाँ दोस्तों इस बात का खाश ध्यान रखें कि जब आप दिवाली की शॉपिंग करें तो अपने बजट को भी जरूर ध्यान में रखें और हो सके तो घर से अपना बजट निश्चित करलें की आपको कितने बजट तक का सामान खरीदना है. इससे आपको सामान खरीदने में आसानी रहेगी.

     Advertisements