रानी लक्ष्मीबाई के जीवन की कुछ रोचक और अदभुत बातें Interesting and amazing of Rani Lakshmibai

लक्ष्मीबाई का जीवन परिचय Biography of Lakshmibai

%e0%a4%b2%e0%a4%95%e0%a5%8d%e0%a4%b7%e0%a5%8d%e0%a4%ae%e0%a5%80%e0%a4%ac%e0%a4%be%e0%a4%88-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%b5%e0%a4%a8-%e0%a4%aa%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%9a%e0%a4%af-biograpरानी लक्ष्मीबाई को झाँसी की रानी के नाम से भी जाना जाता है यह मराठा शासित राज्य झाँसी की रानी थी जो उत्तर-मध्य भारत में स्थित है. रानी लक्ष्मीबाई 1857 के प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की वीरांगना थी रानी लक्ष्मीबाई ने बहुत ही छोटी उम्र में ब्रिटिश साम्राज्य से लड़ाई की थी.

Advertisements

 

रानी लक्ष्मीबाई ने हमारे देश को स्वतंत्रा दिलाने के लिए बहुत से राजाओं से भी लड़ाई की थी. लक्ष्मीबाई ने देश की स्वतंत्रता के लिए ब्रिटिश शासन के साथ लड़ाई भी की और अंत में वीरगति को प्राप्त हुई.

महारानी लक्ष्मीबाई का इतिहास  History of Rani Laxmi Bai

  • लक्ष्मीबाई का पूरा नाम –  राणी लक्ष्मीबाई गंगाधरराव
  • लक्ष्मीबाई का बचपन का नाम- मणिकर्णिका
  • लक्ष्मीबाई का प्यार का नाम- मनु
  • लक्ष्मीबाई का जन्म – 19 नवम्बर, 1835
  • लक्ष्मीबाई का जन्मस्थान– वाराणसी
  • लक्ष्मीबाई के पिता का नाम– श्री. मोरोपन्त
  • लक्ष्मीबाई की माता का नाम– भागीरथी
  • लक्ष्मीबाई की शिक्षा-दीक्षा – मल्लविद्या, घुसडवारी और शत्रविद्याए सीखी.
  • लक्ष्मीबाई का विवाह– राजा गंगाधरराव के साथ
  • रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु- 18 जून 1858, कोटा की सराय, ग्वालियर

Advertisements

 

रानी लक्ष्मी बाई का प्रारंभिक जीवन Early life of Rani Lakshmi Bai

लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवम्बर 1835 को वाराणसी जिले के एक मराठी ब्राह्मण परिवार में हुआ था. लक्ष्मीबाई के बचपन का नाम मणिकर्णिका था उनका प्यार का नाम मनु था.उनके पिता का नाम मोरोपंत ताम्बे था और माता का नाम भागीरथी सप्रे था, लक्ष्मीबाई जब चार साल की थीं तभी उनकी माता का स्वर्गवास हो गया था  उनके पिता मराठा बाजीराव की सेवा में थे और मनु को अपने साथ बाजीराव के दरबार में ले जाया करते थे वहां सब उसे प्यार से “छबीली” कहते थे. सन 1842 में मनु का विवाह झाँसी के राजा गंगाधर राव निम्बालकर के साथ हुआ और इस प्रकार वे झाँसी की रानी बन गयीं और उनका नाम बदलकर लक्ष्मीबाई कर दिया गया.

Advertisements

 

अंग्रेजी के साथ संघर्ष की कहानी Story of the struggle

अंग्रेजी हुकुमत द्वारा झांसी पर अधिकार करने के बाद रानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजों से संघर्ष के लिए एक स्वयंसेवक सेना का गठन किया उनकी सेना में महिलाये भी थी. झाँसी की आम जनता ने भी इस लड़ाई में उनका साथ दिया. सन 1858 के जनवरी महीने में अंग्रेजी सेना ने झाँसी की ओर प्रस्थान किया और मार्च में पूरे शहर को घेर लिया दो हफ़्तों के कठिन संघर्ष के बाद अंग्रेजों ने शहर पर कब्जा कर लिया लेकिन लक्ष्मीबाई अपने पुत्र दामोदर राव के साथ अंग्रेजी सेना से बच कर भाग निकली और तात्या टोपे से मिली उन दोनों की संयुक्त सेना ने ग्वालियर के विद्रोही सैनिकों की मदद से ग्वालियर के एक किले पर कब्जा कर लिया और रानी लक्ष्मीबाई अंग्रेजी सेना का मुकाबला करते  17 जून 1858 को ग्वालियर के पास कोटा की सराय में ब्रिटिश सेना से लड़ते-लड़ते वीरगति को प्राप्त हो गयी थी.

Advertisements

 

प्रश्न 1. रानी लक्ष्मीबाई कहा की रानी थी ?

उत्तर.  रानी लक्ष्मीबाई झाँसी की रानी थी.

प्रश्न 2. रानी लक्ष्मीबाई का जन्म कब हुआ था?

उत्तर. रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवम्बर, 1835 को वाराणसी में हुआ था. 

प्रश्न 3. रानी लक्ष्मीबाई की माता का नाम क्या था ?

उत्तर. रानी लक्ष्मीबाई की माता का नाम भागीरथी था.

प्रश्न.4. रानी लक्ष्मीबाई  के पिता का नाम क्या था?

उत्तर. रानी लक्ष्मीबाई के पिता का नाम श्री. मोरोपन्त था.

प्रश्न 5. लक्ष्मीबाई का बचपन का नाम क्या था ?

उत्तर. लक्ष्मीबाई का बचपन का नाम मणिकर्णिका था.

प्रश्न. 6. लक्ष्मीबाई का विवाह किसके साथ हुआ था?

उत्तर. लक्ष्मीबाई का विवाह राजा गंगाधरराव के साथ हुआ था.

प्रश्न. 7. लक्ष्मीबाई का प्यार का नाम क्या था ?

उत्तर.  लक्ष्मीबाई का प्यार का नाम  मनु था ?

प्रश्न ८. रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु कब हुई थी?

उत्तर.  रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु 18 जून 1858, कोटा की सराय, ग्वालियर में हुई थी.