आँखों की रोशनी के टॉप योगा, व्यायाम और घरेलू उपाय Good Eyesight tips

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए योग और सरल घरेलु उपचार

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए योग और सरल घरेलु उपचार upcharnuskheआँखे हमारे शरीर का सबसे महत्‍वपूर्ण व नाजुक हिस्सा है. स्वस्थ आँखों से हम दुनिया को देख सकते हैं. रंगो की पहचान कर सकते हैं. वैसे तो उम्र बढ़ने के साथ-साथ आंखों की समस्या से हमें जूझना ही पड़ता है, लेकिन इसके पीछे वजह यह है कि आंखों के आसपास की मांसपेशियां ढीली पड़ जाती हैं. आंखें हमारी महत्वपूर्ण इंद्रियों में से एक हैं, इसीलिए इन्हें सुरक्षित रखना बहुत आवश्यक है. किन्तु यांत्रिक जीवनशैली ने बड़े ही नहीं, बच्चों की आंखों को भी अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है. घंटों कंप्यूटर या टेलीविज़न के आगे बैठने, कम रोशनी वाले बल्ब के नीचे बैठने या ढलती उम्र की वजह से हमारी आँखों की ताकत मानो एक उम्र के बाद चली सी जाती है. आजकल तो छोटी सी उम्र में ही एक बच्चे की आँखों पर नजर के चश्में या कांटेक्ट लेंस लगे देखे जा सकते हैं.

आँखों की रोशनी बढ़ाने के घरेलू उपाय

बादाम गिरी व सौंफ का चूर्ण

प्रतिदिन कुछ मात्रा में बादाम गिरी व सौंफ लेकर इनको कूटकर चूर्ण बनाकर मुंह में रखें और इसे धीरे धीरे खा लें. ऐसा सोने से पहले हर रोज करें, आपकी आँखों की कमजोरी दूर हो जायेगी. साथ ही आँखों की रोशनी भी बढ़ाई जा सकती है.

त्रिफला का उपयोग

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए रात को एक चम्म्च त्रिफला मिटटी के बर्तन में भिगोकर रख दे. सुबह उठकर इस पानी को छान ले और इस पानी से आँखो को धोए इससे आँखों की रोशनी बढ़ाने में मदद मिलती है.

हरी सब्जियां खाएं

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए अधिक से अधिक मात्रा में हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए. हरी सब्जियों में अनेक प्रकार के पोष्टिक तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर तथा आँखों को स्वस्थ रखने में सहायक होते हैं. अपने आहार में रोजाना हरी सब्जियों को शामिल करें. हरी सब्जियां खाने से आँखों की कमजोरी दूर होती है.

पपीते का सेवन

अपनी आँखो की सुरक्षा के लिए लोग अनेक प्रकार के उपाय खोजते रहते हैं. स्वस्थ आँखे स्वस्थ शरीर की निशानी मानी जाती है. इसलिए रोजाना पपीते का सेवन करें. पपीते के सेवन से आँखों की रोशनी बढ़ती है साथ ही शरीर भी स्वस्थ रहता है.

आँखो की रोशनी बढ़ाने के व्यायाम

आँखो को स्वस्थ रखने के लिए उनकी सही देखभाल करना बहुत ही आवश्यक होता है. आँखो को स्वस्थ रखने में वयायाम भी बहुत सहायक है. आँखो के व्यायाम करने से आँखो की मांसपेशिया लचीली बनती हैं साथ ही आँखों के लिए ऊर्जा प्रवाहित होती हैं. इसके अलावा व्यायाम उत्तम दृष्टि के लिए भी बहुत लाभदायक होता है.

पहला व्यायाम

एक हाथ की दुरी पर एक पेन्सिल पकडे. अब इन पेंसिल पर ध्यान केंद्रित करें. अब इसे धीरे-धीरे अपनी नाक की तरफ लाये फिर इसे अपनी दृष्टि से आगे ले जाने के लिए नाक से दूर ले जाए. इसके दौरान अपनी दृष्टि को पेन्सिल की नोक पर ही केंद्रित कर के रखें. इस विधि को एक दिन में दस बार करें.

दूसरा व्यायाम

कुछ सेकंड के लिए घड़ी की दिशा में अपनी आँखो को गोल-गोल घुमाए. फिर कुछ सेकंड बाद इसकी विपरीत दिशा में आँखों को घुमाए और इस प्रक्रिया को कम से कम पांच बार दोहराए.

तीसरा व्यायाम

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए सबसे पहले अपनी आँखों के 20 या 30 गुना तेजी से पलके झपकाए. अब अपनी आँखे फैलाए और पलकों को बार-बार झपकाए. कुछ देर बार आँखो को बंद करें और उन्हें थोड़ा आराम दे.

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए योगा 

त्राटक आसान

आँखे हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है. आँखो के बिना हम कोई भी कार्य नहीं कर सकते इसलिए आखो की नियमित रूप से देखभाल करें. त्राटक आसान अंधरे में किया जाने वाला आसान हैं. आमतौर पर इस आसान को रात में ही किया जाता है. परन्तु आपको यदि रात को आसान करने में तकलीफ होती है. तो आप दिन में किसी कमरे में अँधेरा करके भी इस आसान को कर सकते हैं.

इस आसान को करने के लिए सबसे पहले एक मोमबत्ती जलाए. अब प्राणायाम की मुद्रा में बैठ जाएं. बिना अपनी पलकें झपकाए एकटक से मोमबत्ती को देखते रहें. इसके बाद थोड़ा सा ओम उच्चारण के करके साथ में प्राणायम करें और फिर आंख खोल लें. रिलैक्स होने के बाद इस प्रक्रिया को दोबारा दोहराएं और इसे कम से कम 3 बार करें. आखिर में अपनी हथेलियों को आपस में रगड़ें और फिर उस गर्म हथेली से आंखों को स्पर्श करते हुए आंख खोलें. जब भी आप आँखे खोलें तो ध्यान रखें कि आंख आपकी नजर आपकी नाक पर ही होनी चाहिए.

अनुलोम विलोम भी फायदेमंद

आँखो को सुरक्षित तथा स्वस्थ रखने के लिए हम अनेक प्रकार के कार्य करते हैं. आँखो हमारे शरीर का अभिन्न अंग हैं. इसकी सुरक्षा करना अतिआवश्यक होता है. अनुलोम विलोम से भी हम अपनी आँखो को स्वस्थ रख सकते हैं साथ ही आँखो की रोशनी भी बढ़ाई जा सकती हैं.

अनुलोम विलोम प्राणायाम को करने के लिए सबसे पहले पालकी मोड़कर बैठ जाये. इस दौरान अपनी आपकी कमर और गर्दन दोनों सीधी होनी चाहिए. अब अपनी आंखें बंद कर लीजिए. अब अपने सीधे हाथ को नाक के छिद्र पर ले जाएं. अब अपनी बीच की अंगुलियों को सीधा रखते हुए अंगूठे से दाएं नाक के छिद्र को बंद कर लीजिए.  और बाएं नाक के छिद्र से धीरे-धीरे सांस को बाहर की ओर निकालें. सांस छोड़ने के बाद अब बाएं नाक के छिद्र से ही सांस भरना प्रारंभ करें. अधिक से अधिक सांस भरने के बाद बाएं नाक के छिद्र को अंगुलियों की मदद से बंद कर लें व अंगूठे को दाएं नासारन्ध्र से हटाकर दाईं नासिका से सांस को धीरे-धीरे बाहर निकालें. अनुलोम विलोम प्राणायाम 5 मिनट दोहराये. इस आसान को करने से रोशनी बढ़ती है.

आँखों की रोशनी बढ़ाये शवासन से 

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए सबसे अच्छा आसान शवासन है. शवासन में आँखो की थकान दूर होती है तथा आँखे स्वस्थ रहती हैं.

इस आसान को करने के लिए सबसे पहले आप पीठ के लेट जाएं तथा अपने मन को शांत रखें. अब अपने पैरो को ढीला छोड़कर हाथो को शरीर से चिपका कर बगल में रखें. अपना पूरा शरीर फर्श पर स्थिर रखें. इस आसान को नियमित रूप से करने आँखो की रोशनी बढ़ाई जा सकती है.

Related Post