थायराइड के कारण और घरेलु उपाय Thyroid causes and treatment

थायराइड होने के कारण और सरल घरेलु उपचार

आजकल थायराइड की समस्या होना एक आम समस्या बन गई है. एक स्वस्थ्य मनुष्य में थायरायड ग्रंथि का भार 25 से 50 ग्राम तक होता है. थाइराइड को समस्या गर्दन के सामने और स्वर तंत्र के दोनों तरफ होने लगती है. इसका आकर तितली की तरह होता है.

Advertisements

 

आमतौर पर थायराइड दो प्रकार के होते हैं. हाइपरथायराइडिज्म और हाइपोथायराइड. आजकल के भागदौड़ भरे जीवन में थायराइड की समस्या एक गंभीर समस्या के रूप में उभर कर आ रही है. इस रोग के होने से व्यक्ति को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है. इस समस्या के समाधान के लिए हमें कुछ सरल घरेलु उपायों की मदद लेनी चाहिए. जिनसे थायरायड की समस्या को आसानी से दूर किया जा सकता है तथा ये सभी घरेलू उपाय अतयन्त सरल तथा आसान भी होते हैं.

थायरायड होने के प्रमुख कारण

ह्य्पोथालमिक रोग – कोई बार पिट्यूटरी ग्रंथि के कारण भी थायराइट की समस्या हो जाती है क्योंकि यह थायरायड ग्रंथि हार्मोन को उतपन्न करने की सूचना नहीं दे पाती.

ग्रेव्स रोग – ग्रेव्स रोग होने के कारण थायराइड रोग होने का सबसे बड़ा कारण है. इसमें थायरायड ग्रंथि होने के कारण थायरायड हार्मोन का स्राव अत्यधिक बढ़ जाता है. जिसके कारण थायराइड की समस्या होने लगती है.

Advertisements

 

आयोडीन की कमी – आहार में आयोडीन की कमी या आदिक सेवन भी थायराइड का लक्षण हो सकता है.

तनाव – अधिक तनाव लेने से भी यह समस्या का विकार उतपन्न हो जाता है. जब अधिक तनाव होता है तो इसका सीधा असर थायरायड ग्रंथि पर पड़ता है। यह ग्रंथि हार्मोन के स्राव को बढ़ा देती  है और थायरायड हो जाता है.

थायराइड के लक्षण

  • थायराइड की समस्या होने पर अचानक से वजन का बढ़ता तथा घटता रहता है.
  • जल्दी थकान लगना.
  • गर्दन में दर्द या सूजन होना.
  • भूख न लगना.
  • अधिक पसीना आना.

Advertisements

 

थायराइड को दूर करने के आसान उपाय

मुलेठी का सेवन

थायराइड की समस्या को रोकने के लिए मुलेठी का सेवन करना बेहद फायदेमंद होता है. मुलेठी में मौजूद तत्व थायराइड ग्रंथी को संतुलित बनाते हैं और थकान को उर्जा में बदल देते हैं. रोजाना मुलेठी का सेवन करना फायदेमंद होता है.

साबुत अनाज का सेवन

साबुत अनाज के सेवन थायराइड की समस्या को आसानी से दूर किया जा सकता है. साबुत अनाज में  फाइबर, प्रोटीन और विटामिन्स आदि की अत्यधिक मात्रा पायी जाती है. जिसके कारण थायराइड को दूर किया जा सकता है.

एक्युप्रेशर

थायराइड को एक्यूप्रेशर के द्वारा भी ठीक किया जा सकता है. एक्युप्रेशर में पैराथायराइड और थयरायड के जो बिंदू होते हैं वे पैरों और हाथों के अंगूठे के नीचे और थोड़े उठे हुए भाग में मौजूद होते हैं. अपने इन बिंदुओं को बाएं से दाएं ओर दबाए. हर बिंदु को कम से कम तीन मिनट तक दबाएं. इसका प्रयोग दिन में करीब दो बार करें.

Advertisements

 

फलों और सब्जियों के फायदे

थायराइड की समस्या होने पर फलों और सब्जियों का अत्यधिक सेवन करना चाहिए. फलों और सब्जियों में एंटीआक्सिडेंटस पाया जाता है. जिसके कारण थायराइड की समस्या नहीं होती.

अदरक के फायदे

अदरक में पोटेशियम, मैग्नीश्यिम आदि गुण पाये जाते हैं जो थायराइड की समस्या से राहत दिलाते हैं. अदरक में एंटी-इंफलेमेटरी गुण पाये जाते हैं जो थायराइड को होने से रोकते हैं.

प्राणायाम और योगा

थायराइड की समस्या को दूर करने के लिए सूर्यनमस्कार, सर्वांगासन, हलासन और मत्स्यासन करना बहुत आवश्यक है. प्रतिदिन उठकर प्राणायाम और योगा से अपने दिन की शुरुआत करें.

Advertisements

 

Related Post